Skip to content

Bharat Ke Shiksha Mantri kaun Hai

Bharat Ke Shiksha Mantri kaun Hai – भारत ने 1947 में अपनी स्वतंत्रता के बाद से कई शिक्षा मंत्रियों को देखा है। इन शिक्षा मंत्रियों ने देश की शिक्षा प्रणाली और नीतियों को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। शिक्षा का अधिकार अधिनियम को लागू करने से लेकर नई पहल करने तक, भारत के शिक्षा मंत्रियों ने देश की शिक्षा प्रणाली पर अपनी छाप छोड़ी है। इस लेख में, हम 1947 से 2023 तक भारत के शिक्षा मंत्रियों के नामों पर एक नज़र डालेंगे।

Bharat Ke Shiksha Mantri kaun Hai

Bharat Ke Shiksha Mantri kaun Hai

1947 से 2023 तक भारत के शिक्षा मंत्रियों की सूची इस प्रकार है:

  1. मौलाना अबुल कलाम आज़ाद (1947-1958): मौलाना अबुल कलाम आज़ाद स्वतंत्र भारत के पहले शिक्षा मंत्री थे। वह एक विद्वान और स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनका मानना था कि शिक्षा भारत की प्रगति की कुंजी है और उन्होंने देश में एक आधुनिक शिक्षा प्रणाली स्थापित करने के लिए अथक प्रयास किया।
  2. हुमायूँ कबीर (1958-1963): हुमायूँ कबीर एक दार्शनिक और शिक्षाविद् थे जिन्होंने 1958 से 1963 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्हें भारतीय संस्थानों की स्थापना सहित भारत में उच्च शिक्षा के विकास में उनके योगदान के लिए याद किया जाता है। प्रौद्योगिकी (आईआईटी) और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी)।
  3. एम. सी. छागला (1963-1966): एम. सी. छागला एक प्रसिद्ध न्यायविद्, राजनयिक और शिक्षाविद् थे, जिन्होंने 1963 से 1966 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा प्रणाली की स्थापना सहित भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अहमदाबाद में शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (IIM)।
  4. फखरुद्दीन अली अहमद (1966-1967 और 1975-1977): फखरुद्दीन अली अहमद ने दो बार भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, पहले 1966 से 1967 तक और बाद में 1975 से 1977 तक। वह एक वकील और राजनेता थे जिन्होंने शिक्षा के प्रचार की दिशा में काम किया। भारत में। शिक्षा मंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने उच्च शिक्षा के विस्तार और नए विश्वविद्यालयों की स्थापना पर ध्यान केंद्रित किया।
  5. नुरुल हसन (1967-1971): नुरुल हसन एक अकादमिक और शिक्षाविद् थे, जिन्होंने 1967 से 1971 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की स्थापना सहित भारतीय शिक्षा प्रणाली के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। (JNU) दिल्ली में और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) कानपुर में।
  6. सिद्धार्थ शंकर रे (1971-1975): सिद्धार्थ शंकर रे एक वकील, राजनेता और शिक्षाविद् थे, जिन्होंने 1971 से 1975 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारत में शिक्षा के विकास की दिशा में काम किया, जिसमें नए विश्वविद्यालयों की स्थापना और उच्च शिक्षा का विस्तार
  7. शिवेंद्र कुमार सिंह (1977-1979): शिवेंद्र कुमार सिंह एक राजनेता और शिक्षाविद् थे, जिन्होंने 1977 से 1979 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारत में प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षा के विकास पर ध्यान केंद्रित किया और शिक्षा के सुधार की दिशा में काम किया। ग्रामीण क्षेत्रों में प्रणाली।
  8. वसंत साठे (1979-1980): वसंत साठे एक राजनेता और शिक्षाविद थे, जिन्होंने 1979 से 1980 तक भारत के शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। उन्होंने भारत में शिक्षा के विकास की दिशा में काम किया और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) की स्थापना में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  9. वसंत साठे (1979-1980): वसंत साठे को 1979 में प्रधान मंत्री चरण सिंह के मंत्रिमंडल में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने 1980 में सरकार के पतन तक इस पद पर कार्य किया। देश में शिक्षा प्रणाली को मजबूत करना और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाना।
  10. शंकरराव चव्हाण (1980-1984): शंकरराव चव्हाण ने 1980 में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में वसंत साठे की जगह ली। उन्होंने 1984 तक इस पद पर रहे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता चव्हाण ने देश में शिक्षा प्रणाली के आधुनिकीकरण पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने भारत में साक्षरता दर में सुधार के लिए कई उपायों को भी लागू किया।
  11. वी. पी. सिंह (1984-1985): वी. पी. सिंह ने 1984 से 1985 तक प्रधान मंत्री राजीव गांधी के मंत्रिमंडल में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, सिंह ने शिक्षा के क्षेत्र में वैज्ञानिक अनुसंधान और तकनीकी नवाचार को बढ़ावा देने की दिशा में काम किया। उन्होंने देश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए कई नीतियां भी पेश कीं।
  12. पी. वी. नरसिम्हा राव (1985-1989): पी. वी. नरसिम्हा राव ने 1985 में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में वीपी सिंह की जगह ली। उन्होंने 1989 तक इस पद पर रहे। देश में प्राथमिक शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करना।
  13. पी. के. थुंगन (1989-1990): पी. के. थुंगन ने 1989 से 1990 तक प्रधान मंत्री राजीव गांधी के मंत्रिमंडल में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया। समाज के वंचित वर्गों के लिए शिक्षा तक पहुंच।
  14. माधवराव सिंधिया (1990-1991): माधवराव सिंधिया ने 1990 में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में पी.के. थुंगन की जगह ली। वह 1991 तक इस पद पर रहे। कांग्रेस के एक प्रमुख नेता सिंधिया ने तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए कई उपाय किए। देश में।
  15. अर्जुन सिंह (1991-1995): अर्जुन सिंह ने 1991 से 1995 तक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, सिंह ने शिक्षा पर राष्ट्रीय नीति सहित कई ऐतिहासिक नीतियां पेश कीं, जिसका उद्देश्य सभी के लिए शिक्षा को बढ़ावा देना और वृद्धि करना था। देश में शिक्षा की गुणवत्ता। सिंह ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) और भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) की स्थापना में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  16. पी. वी. नरसिम्हा राव (1995-1996): पी. वी. नरसिम्हा राव को 1995 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में फिर से नियुक्त किया गया। उन्होंने 1996 तक इस पद पर रहे। अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान, राव ने देश में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर ध्यान देना जारी रखा। और समाज के वंचित वर्गों के लिए शिक्षा तक पहुंच को बढ़ावा देना।
  17. एस. आर. बोम्मई (1996-1997): एस. आर. बोम्मई ने 1996 से 1997 तक प्रधान मंत्री एच. डी. देवेगौड़ा के मंत्रिमंडल में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, बोम्मई ने तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया। देश में।
  18. डॉ. मुरली मनोहर जोशी (1998-2004): डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने 1998 से 2004 तक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, जोशी ने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कई पहल की।
  19. अर्जुन सिंह (2004-2009): अर्जुन सिंह को 2004 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने शिक्षा का अधिकार अधिनियम, सर्व शिक्षा अभियान और मध्याह्न भोजन जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। योजना। उन्हें कोटा के मुद्दे पर भी विवाद का सामना करना पड़ा और ओबीसी आरक्षण के मुद्दे को संभालने के लिए उनकी आलोचना की गई।
  20. कपिल सिब्बल (2009-2012): कपिल सिब्बल को 2009 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम, 2009 के बच्चों का अधिकार पेश किया और देश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। भारत में विदेशी विश्वविद्यालयों की शुरूआत के मुद्दे से निपटने के लिए उन्हें आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा।
  21. पल्लम राजू (2012-2014): पल्लम राजू को 2012 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने उच्च शिक्षा संस्थानों में सीटों की संख्या बढ़ाने और ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों को संभालने के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  22. स्मृति ईरानी (2014-2016): स्मृति ईरानी को 2014 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क और स्वच्छ विद्यालय अभियान जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। उन्हें अपनी डिग्री योग्यता और जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शनों से निपटने के लिए भी विवाद का सामना करना पड़ा।
  23. प्रकाश जावड़ेकर (2016-2019): प्रकाश जावड़ेकर को 2016 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना और उच्च शिक्षा वित्तपोषण एजेंसी जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों और राष्ट्रीय शिक्षा नीति की शुरूआत के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  24. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (2019-2021): रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ को 2019 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 पेश की और ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। ग्रामीण इलाकों। जेएनयू छात्र विरोध और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों से निपटने के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  25. धर्मेंद्र प्रधान (2021-वर्तमान): धर्मेंद्र प्रधान को 2021 में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। वह देश के पहले गैर-राजनीतिक शिक्षा मंत्री हैं। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने देश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार और व्यावसायिक प्रशिक्षण को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया है। उन्होंने राष्ट्रीय डिजिटल शिक्षा वास्तुकला और राष्ट्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी मंच जैसी विभिन्न पहलें भी शुरू की हैं।
  26. पी. वी. नरसिम्हा राव (1995-1996): पी. वी. नरसिम्हा राव को 1995 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में फिर से नियुक्त किया गया। उन्होंने 1996 तक इस पद पर रहे। अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान, राव ने देश में शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर ध्यान देना जारी रखा। और समाज के वंचित वर्गों के लिए शिक्षा तक पहुंच को बढ़ावा देना।
  27. एस. आर. बोम्मई (1996-1997): एस. आर. बोम्मई ने 1996 से 1997 तक प्रधान मंत्री एच. डी. देवेगौड़ा के मंत्रिमंडल में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, बोम्मई ने तकनीकी शिक्षा को बढ़ावा देने और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया। देश में।
  28. डॉ. मुरली मनोहर जोशी (1998-2004): डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने 1998 से 2004 तक केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में कार्य किया। अपने कार्यकाल के दौरान, जोशी ने शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कई पहल की।
  29. अर्जुन सिंह (2004-2009): अर्जुन सिंह को 2004 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने शिक्षा का अधिकार अधिनियम, सर्व शिक्षा अभियान और मध्याह्न भोजन जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। योजना। उन्हें कोटा के मुद्दे पर भी विवाद का सामना करना पड़ा और ओबीसी आरक्षण के मुद्दे को संभालने के लिए उनकी आलोचना की गई।
  30. कपिल सिब्बल (2009-2012): कपिल सिब्बल को 2009 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा अधिनियम, 2009 के बच्चों का अधिकार पेश किया और देश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। भारत में विदेशी विश्वविद्यालयों की शुरूआत के मुद्दे से निपटने के लिए उन्हें आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा।
  31. पल्लम राजू (2012-2014): पल्लम राजू को 2012 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने उच्च शिक्षा संस्थानों में सीटों की संख्या बढ़ाने और ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों को संभालने के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  32. स्मृति ईरानी (2014-2016): स्मृति ईरानी को 2014 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क और स्वच्छ विद्यालय अभियान जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। उन्हें अपनी डिग्री योग्यता और जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शनों से निपटने के लिए भी विवाद का सामना करना पड़ा।
  33. प्रकाश जावड़ेकर (2016-2019): प्रकाश जावड़ेकर को 2016 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना और उच्च शिक्षा वित्तपोषण एजेंसी जैसी विभिन्न पहल की शुरुआत की। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों और राष्ट्रीय शिक्षा नीति की शुरूआत के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  34. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ (2019-2021): रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ को 2019 में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 पेश की और ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा देने और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया। ग्रामीण इलाकों। जेएनयू छात्र विरोध और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के कामकाज से संबंधित मुद्दों से निपटने के लिए उन्हें आलोचना का भी सामना करना पड़ा।
  35. धर्मेंद्र प्रधान (2021-वर्तमान): धर्मेंद्र प्रधान को 2021 में केंद्रीय शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था। वह देश के पहले गैर-राजनीतिक शिक्षा मंत्री हैं। अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने देश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार और व्यावसायिक प्रशिक्षण को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया है। उन्होंने राष्ट्रीय डिजिटल शिक्षा वास्तुकला और राष्ट्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी मंच जैसी विभिन्न पहलें भी शुरू की हैं।

शिक्षा किसी भी देश के विकास का एक अनिवार्य हिस्सा है। भारत में, शिक्षा क्षेत्र में पिछले कुछ वर्षों में कई परिवर्तन हुए हैं। सरकार शिक्षा क्षेत्र के विकास और यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि युवाओं को देश के विकास में योगदान देने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान प्राप्त हो। शिक्षा मंत्री भारत में शिक्षा क्षेत्र के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार व्यक्ति है। भारत में शिक्षा मंत्रियों का चयन एक विशिष्ट प्रक्रिया का पालन करता है, जिसके बारे में हम इस लेख में विस्तार से चर्चा करेंगे।

भारत में शिक्षा मंत्रियों का चयन कैसे करें

योग्यता और पात्रता

शिक्षा मंत्री के चयन में पहला कदम योग्यता और पात्रता मानदंड निर्धारित करना है। भारतीय संविधान के अनुसार, कोई भी व्यक्ति जो भारत का नागरिक है और जिसकी आयु 25 वर्ष से अधिक है, शिक्षा मंत्री बनने के योग्य है। हालांकि, उम्मीदवार के पास पद के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए आवश्यक शैक्षिक योग्यता और अनुभव होना चाहिए। उम्मीदवार के पास किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होनी चाहिए और शिक्षा क्षेत्र में काम करने का अनुभव होना चाहिए। उम्मीदवार का अनुभव शिक्षण, प्रशासन या अनुसंधान में हो सकता है।

चयन प्रक्रिया

भारत में एक शिक्षा मंत्री का चयन एक राजनीतिक प्रक्रिया है, और राजनीतिक दल चयन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। शिक्षा मंत्री के चयन के लिए प्रधान मंत्री और कैबिनेट मंत्री जिम्मेदार हैं। सत्तारूढ़ पार्टी के संसदीय बोर्ड और पार्टी के आलाकमान ने चर्चा की और उम्मीदवार के नाम को अंतिम रूप दिया। उम्मीदवार का अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड होना चाहिए और उसे पार्टी के नेताओं और सदस्यों द्वारा स्वीकार किया जाना चाहिए।

इसके बाद उम्मीदवार को प्रधानमंत्री और कैबिनेट मंत्रियों के साथ साक्षात्कार के लिए आमंत्रित किया जाता है। साक्षात्कार के दौरान, उम्मीदवार के ज्ञान, अनुभव और शिक्षा क्षेत्र के लिए दृष्टि का मूल्यांकन किया जाता है। उम्मीदवार से यह भी उम्मीद की जाती है कि वह देश की शिक्षा नीतियों और इस क्षेत्र के विकास में योगदान करने की योजना के बारे में सवालों के जवाब देगा।

साक्षात्कार के बाद, उम्मीदवार का नाम भारत के राष्ट्रपति के पास अनुमोदन के लिए भेजा जाता है। एक बार जब राष्ट्रपति उम्मीदवार की नियुक्ति को मंजूरी दे देते हैं, तो उन्हें शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया जाता है।

नियम और जिम्मेदारियाँ

शिक्षा मंत्री भारत में शिक्षा क्षेत्र के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है। मंत्री की प्राथमिक भूमिका शिक्षा नीतियों को विकसित और कार्यान्वित करना है जो यह सुनिश्चित करती हैं कि युवाओं को देश के विकास में योगदान करने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान प्राप्त हो। शिक्षा मंत्री शिक्षा क्षेत्र में अनुसंधान को बढ़ावा देने और यह सुनिश्चित करने के लिए भी जिम्मेदार है कि शिक्षा क्षेत्र का बजट पर्याप्त रूप से आवंटित किया गया है।

शिक्षा मंत्री भारत में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित करने वाली शिक्षा नीतियों को विकसित करने और लागू करने के लिए जिम्मेदार हैं। शिक्षा नीतियों को प्रभावी ढंग से लागू करने के लिए मंत्री को राज्य सरकारों और शिक्षा क्षेत्र के अन्य हितधारकों के साथ मिलकर काम करना चाहिए।

शिक्षा क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा मंत्री भी जिम्मेदार हैं। मंत्री को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि देश के विकास में योगदान देने के लिए युवाओं को आवश्यक कौशल और ज्ञान प्रदान करने के लिए नवीनतम तकनीक का उपयोग किया जाए।

शिक्षा मंत्री शिक्षा क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार है। अनुसंधान, छात्र विनिमय कार्यक्रमों और अन्य सहयोग को बढ़ावा देने के लिए मंत्री को विदेशी सरकारों और शैक्षणिक संस्थानों के साथ मिलकर काम करना चाहिए।

वेतन और भत्ते

भारत में एक शिक्षा मंत्री का वेतन सरकार द्वारा निर्धारित किया जाता है। मंत्री का वेतन मंत्रिमंडल में उनके रैंक के आधार पर निर्धारित किया जाता है। शिक्षा मंत्री सबसे वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों में से एक है, और इसलिए, उसका वेतन सरकार में सबसे अधिक है। शिक्षा मंत्री एक आधिकारिक निवास, परिवहन और सुरक्षा कर्मियों सहित कई भत्तों का हकदार है।

भारत में शिक्षा मंत्रियों पर तथ्य

  • मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, जिन्होंने भारत के पहले शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख नेता और सभी के लिए धर्मनिरपेक्षता और शिक्षा के प्रबल समर्थक थे।
  • 1963 से 1966 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य करने वाले एम सी छागला को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की स्थापना में उनके योगदान के लिए जाना जाता है।
  • फखरुद्दीन अली अहमद, जिन्होंने 1966-67 और 1975-77 में दो बार शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, 1974 से 1977 तक भारत के पांचवें राष्ट्रपति बने।
  • अर्जुन सिंह, जिन्होंने 1991 से 1995 और 2004 से 2009 तक दो बार शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, उन्हें शिक्षा का अधिकार अधिनियम और भारतीय प्रबंधन संस्थानों (IIM) की स्थापना के लिए उनके योगदान के लिए जाना जाता है।
  • डॉ. मुरली मनोहर जोशी, जिन्होंने 1998 से 2004 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, ने सर्व शिक्षा अभियान कार्यक्रम की शुरुआत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसका उद्देश्य 6 से 14 वर्ष की आयु के सभी बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा प्रदान करना था।
  • कपिल सिब्बल, जिन्होंने 2009 से 2012 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, ने शिक्षा का अधिकार अधिनियम और राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा की शुरुआत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • स्मृति ईरानी, जिन्होंने 2014 से 2016 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, भारत में शिक्षा के आधुनिकीकरण और राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) की शुरुआत के प्रयासों के लिए जानी जाती हैं।
  • प्रकाश जावड़ेकर, जिन्होंने 2016 से 2019 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, ने उच्च शिक्षा वित्तपोषण एजेंसी (HEFA) और स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन की शुरुआत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • रमेश पोखरियाल ‘निशंक’, जिन्होंने 2019 से 2021 तक शिक्षा मंत्री के रूप में कार्य किया, उन्हें राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की शुरुआत और राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) की स्थापना में उनके योगदान के लिए जाना जाता है।
  • धर्मेंद्र प्रधान, जो वर्तमान में शिक्षा मंत्री के रूप में कार्यरत हैं, ने 2021 में पद संभाला और उम्मीद है कि वे शिक्षा तक पहुंच बढ़ाने और भारत में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार पर ध्यान केंद्रित करेंगे।

निष्कर्ष

भारत में शिक्षा मंत्रियों का चयन एक राजनीतिक प्रक्रिया है जिसमें कई हितधारक शामिल होते हैं, जिनमें प्रधान मंत्री, कैबिनेट मंत्री, संसदीय बोर्ड और सत्तारूढ़ दल के आलाकमान शामिल हैं। चयन प्रक्रिया में उम्मीदवार की योग्यता और अनुभव आवश्यक मानदंड हैं। शिक्षा मंत्री की प्राथमिक भूमिका शिक्षा नीतियों को विकसित और कार्यान्वित करना है जो यह सुनिश्चित करती है कि युवाओं को देश के विकास में योगदान करने के लिए आवश्यक कौशल और ज्ञान प्राप्त हो। शिक्षा मंत्री का वेतन सरकार द्वारा निर्धारित किया जाता है और उच्चतम में से एक है।

यह भी पढ़ें:- bharat ka uprashtrapati kaun hai